Top 3 Homeopathic Drops For Piles – बवासीर को ठीक करने की 3 सबसे अच्छा होम्योपैथिक ड्रॉप

Top 3 Homeopathic Drops For Piles – बवासीर को ठीक करने की 3 सबसे अच्छा होम्योपैथिक ड्रॉप


नमस्कार बवासीर को दूसरे अर्थों में Haemorrhoids या Piles भी कहते हैं। आज भारत में यह समस्या हर पांच में से एक व्यक्ति को है, जोकि अब आम बनता जा रहा है। बवासीर के लक्षण और कारण को आसानी से पहचाना जा सकता है। इसके लिए एलोपैथिक, आयुर्वेद व होम्योपैथिक में कई दवाइयां बताई गई हैं। आज इस वीडियो में हम टॉप 3 होम्योपैथिक ड्रॉप्स के बारे में जानेंगे जोकि पाइल्स अर्थात बवासीर में बहुत अच्छा काम करती है। वीडियो को पूरा अवश्य देखें ताकि आप पूरी तरह समझ पाएं, तो आइये समझते हैं। होम्योपैथिक में बवासीर के लिए 3 सबसे अच्छी होम्योपैथिक ड्रॉप्स हैं जोकि हर प्रकार के बवासीर में कारगर है। सबसे पहली दवा दवा है Dr. Reckeweg R13 – यह दवा Hemorrhoids, गुदा द्वार में अत्यधिक खुजली, काटने चुभने जैसा दर्द, खुनी बवासीर, Anal Fissures, गुदा द्वार के अंदर के मस्से इत्यादि में बहुत अधिक लाभ पहुँचती है। इसमें कई सारी होम्योपैथिक दवाइयां डली हुई हैं, उसके बारे में भी मैं जल्दी से चर्चा कर देता हूँ। Acidum Nitricum: गुदा-प्रदेश पर इस औषधि के समान अन्य किसी औषधि का इतना प्रभाव नहीं है। पाखाना इतना तेज, काटने और छीलने वाला होता है कि वहां दरारें पड़ जाती हैं, वह स्थान चटख जाता है, वहां घाव हो जाते हैं, मस्से बाहर निकल आते हैं, वे भी चटखते हैं, खून निकलता है, मस्से अत्यंत दर्द करते हैं, छुए नहीं जा सकते। इसका विशेष-लक्षण यह है कि नर्म पाखाना भी बड़ी दर्द के साथ आता है क्योंकि गुदा-प्रदेश चटखा रहता है, और वहां से जब छील देने वाला पाखाने का स्राव आता है, तो भले ही वह पतला ही क्यों न हो, रोगी को तड़पा देता है। रोगी पाखाना जाने के घंटो-दो-घंटा बाद तक आराम से नहीं बैठ सकता, भयंकर पीड़ा से इधर-उधर चक्कर लगाया करता है। इस प्रकार की बवासीर में यह अमोघ-औषधि है। Aesculus: बवासीर में कभी खून आता है. कभी नहीं आता। एसक्यूलस प्राय: बादी बवासीर में, जिसमें खून नहीं आता, अधिक उपयोगी है, परन्तु खूनी बवासीर में भी यह लाभ पहुँचाती है। जहां-जहां लाल-नीले (Purple) रंग का रुधिर दिखे, बवासीर के मस्सों में, घाव में, कहीं भी, वहां-वहां यह उपयोगी औषधि है। Collinsonia Canadensis: खून बवासीर में कोलिनसोनिया उत्कृष्ट दवा है। कोलिनसोनिया से लाभ होने के बाद जो कुछ शेष रहे, उसे एसक्यूलस ठीक कर देता है। Hamamelis: रक्तस्राव, नसों का फूल जाना और बवासीर, इसके साथ रोगग्रस्त भाग में कुचल जाने जैसी पीड़ा होना। यह सब इस औषधि के प्रभाव के मुख्य क्षेत्र है। Kalium Carbonicum: पीठ और कमर दर्द, पेट फूलना, कड़ा मल होना, गुदाद्वार में जलन और मरोड़ में लाभ करता है। Lycopodium: लाइको का रोगी कई दिन तक पाखाना नहीं जाता यद्यपि मल-द्वार भारी और भरा रहता है। टट्टी की ख्वाहिश नहीं होती, मल-द्वार क्रियाहीन होता है। ऐसे कब्ज में यह दवा बहुत लाभ देता है। Paeonia: मलद्वार से हमेशा ही रस निकलता है और वहाँ दर्द तथा तनाव बहुत अधिक रहता है। कमर के नीचे कहीं भी घाव क्यों न हो, वह पियोनिया से ठीक हो जाता है। मलद्वार में खुजली, फूलना, जोर की जलन, पाखाने के बाद भीतर बहुत जाड़ा मालूम होना, भगन्दर और अतिसार, तकलीफ देने वाला जख्म, बवासीर, मलद्वार का फटना इत्यादि भी पियोनिया से ठीक होता है। Sulfur: गुदा की लालिमा, खुजली, एक्जिमा, अस्वस्थ त्वचा पर यह बहुत अधिक लाभ देता है। ये सभी दवा मिलकर पाइल्स की एक बेहतरीन ड्रॉप के रूप में होम्योपैथिक स्टोर पर उपलब्ध है। यह 22ML की बोतल करीब 235 रूपए में मिलती है। दवा लेने की विधि :- Dr. Reckeweg R13 की 10 से 15 बून्द आधे कप पानी में डालकर दिन में तीन से चार बार लेना है, जब तक बवासीर की समस्या समाप्त न हो जाये। दूसरे न का ड्रॉप है Pilen Forte Drop :- इसमें Acidum Nitricum, Calcarea Fluorica, Hamamelis Virginica ये तीन होम्योपैथिक दवाइयां मिली हुई हैं। यदि आपको जलन बहुत अधिक होती है, बाहरी बवासीर है, मल त्यागने में अधिक दिक्कत है और साथ ही यदि बवासीर में खून भी निकलता है तो यह दवाई इसके जड़ से इलाज के लिए कारगर है। दवा लेने की विधि :- Pilen Forte Drop की 8 से 10 बून्द आधे कप पानी में डालकर दिन में तीन से चार बार लेना है, जब तक बवासीर की समस्या समाप्त न हो जाये। होम्योपैथिक में यह दवाई सबसे अधिक इस्तेमाल की जाती है बवासीर के इलाज के लिए। Pilen Forte Drop की कीमत :- यह बाजार में 110 रुपय की आसानी से मिल जाती है। तीसरे न की ड्राप है DROX 20 PILOVARIN :- इस दवाई में होम्योपैथिक की कई अन्य दवाइयों का मिश्रण है जो न केवल बवासीर में बल्कि पेट व गुप्तांगों की अन्य कई सस्याओं में कारगर है। इसके अंदर Aesculus Hip 3x, Cal Flour 3x, Lycopodium 3x, Nux Vom 3x, Paeonia Off 3x, Sulphur 3x, Vipera 6x, Blumia Od 3x, Graphites 3x दवाइयां मिले हुए है। ये सभी होम्योपैथिक दवाइयां इसमें डली हुई है। जोकि बवासीर की समस्या पर बहुत अच्छा काम करती है। Drox 20 लेने की विधि :- एक-चौथाई कप पानी में इसकी 8 से 10 बून्द डालकर पीना है। इसका सेवन दिन में तीन से चार बार करना है जब तक बीमारी ठीक न हो जाये। कीमत :- इसकी कीमत बाजार में 140 रुपय है। तीनो दवाओं का कोई भी साइड इफ़ेक्ट नहीं है तो अगर आपको बवासीर से सम्बंधित समस्या है तो आप निःसंकोच दवा का सेवन कर सकते हैं।

2 Comments

  • Mohiyuddin Khan says:

    Thanks, good job

  • dilipkumar sharma says:

    महोदय सादर प्रणाम मैं किसान एवं वरिष्ठ नागरिक हूं मुझे फिशर की समस्या है तथा मुझे मलद्वार पर स्टूल पास करने के बाद लगातार जलन बनी रहती है मौदा से विनती है कृपया कोई अच्छा होम्योपैथिक कांबिनेशन drop बताने की कृपा करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *